रोज करिए humming meditation, एकाग्रता शक्ति बढ़ेगी, नींद भी अच्छी आएगी, जानिए इसके फायदे ? – HindiBrain Hindi news, हिंदी न्यूज़, Hindi Samachar

ध्यान शोर करता है: बहुत से लोगों को काम पर गुनगुनाने की आदत होती है। क्या आप भी उनमें से एक हैं? इस तरह से गुनगुनाने को हमिंग मेडिटेशन कहते हैं। गुंजन ध्यान करने का भी एक नियम है। अपने योग में प्रतिदिन ध्यान का जाप करें। इससे आपका मानसिक स्वास्थ्य भी बढ़ता है।

जब आप इस तरह गुनगुनाते हैं तो आप खुश, तरोताजा और हल्का महसूस करते हैं। इतना ही नहीं ऐसा करते समय मन भी काम में लग जाता है और बिना आलस्य के काम जल्दी पूरा हो जाता है।

शोर ध्यान कैसे करें

सबसे पहले एक शांत कोने में एक चटाई पर अपनी रीढ़ और गर्दन को सीधा करके आराम से बैठ जाएं।

अब अपनी आंखें बंद कर लें और गहरी सांस लें।

अब अपने होठों को बंद कर लें और गहरी सांस लें और धीरे-धीरे गुनगुनाते हुए अपनी नाक से धीरे-धीरे सांस छोड़ना शुरू करें। याद रखें कि सांस छोड़ते हुए आप अंत तक गुनगुनाते रहें।

जैसे ही आप पूरी तरह से सांस छोड़ें, गहरी सांस लें और जोर-जोर से गुनगुनाते हुए सांस छोड़ते रहें।

आप इस मूवमेंट को 1 मिनट तक करें और करीब 15-20 मिनट तक करें।

गुनगुनाते हुए ध्यान के बाद चुपचाप बैठ जाएं या कुछ देर चुप हो जाएं। फिर अपने शरीर और दिमाग में हो रहे बदलाव को महसूस करें।

याद रखें कि खाने के ठीक बाद ऐसा न करें, नहीं तो आपको ध्यान केंद्रित करने में परेशानी हो सकती है।

बहुत शोरगुल वाली जगह पर भी कोई शोर-शराबा नहीं। इससे आप काम करते समय या ऑफिस से लौटते समय कर सकते हैं।

ध्वनि ध्यान के लाभ

इस मेडिटेशन से आपकी एकाग्रता बढ़ती है और आपकी याद रखने की क्षमता भी अच्छी होती है।

आपके शरीर में स्ट्रेस हार्मोन कम होते हैं।

मेडिटेशन करने से रचनात्मकता बढ़ती है और सेहत अच्छी बनी रहती है।

जिन लोगों को नींद नहीं आने की शिकायत होती है, उन्हें ध्यान करना पड़ता है। इससे नींद अच्छी आती है और बेचैनी कम होती है।

ध्यान का जाप करने से दिन भर का तनाव दूर होता है और मन भी शांत होता है।

अगर मन में खुशी का संचार होता है तो शरीर में खुशी के हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है।

शोर ध्यान प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है और बीमारी के जोखिम को कम करता है।

अधिक पढ़ें:

Leave a Comment