प्री-करवाचौथ में MLA आरिफ मसूद को बुलाने पर बवाल: BJP ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण, करणी सेना ने विरोध जताते हुए आयोजकों पर FIR दर्ज करने की मांग – HindiBrain Hindi news, हिंदी न्यूज़, Hindi Samachar

हेमंत शर्मा, इंदौर/अमृतांशी जोशी, भोपाल। सुहागन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए करवा चौथ का ब्रेस्ट रखती हैं। इससे पहले मप्र की राजधानी भोपाल में करवा चौथ के पूर्व समारोह का आयोजन किया गया था. जिसमें कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद को बुलाया गया। इस पर करणी सेना ने विरोध किया। राजपूत प्रदेश अध्यक्ष करणी सेना मंजीत कीर्तिराज सिंह मितवाल ने करवा चौथ के पूर्व आयोजकों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का अनुरोध किया है। बीजेपी आरिफ मसूद के शो में आने को दुर्भाग्यपूर्ण मान रही है.

राजपूत करणी सेना के अनुसार, रानी पद्मावती के प्रिंट को राजपूत पोशाक द्वारा कलंकित किया गया था जिसमें आरिफ मसूद प्री करवा चौथ मनाते हैं। आरिफ मसूद को हिंदू विरोधी नेता बताया जाता है। रानी पद्मावती ने खुद राजपूत पोशाक में जौहर किया। राजपूत समाज को बदनाम करने का प्रयास किया गया। ऐसे में भोपाल में शिकायत के बाद करवा चौथ के आयोजकों के खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है.

इंदौर समाचार: 2 साल की बच्ची को अगवा कर दुष्कर्म की आशंका, यहां शौचालय जाने को लेकर हुए विवाद में भाई ने की हत्या

करवा चौथ के शो में विधायक आरिफ मसूद के आने के बाद सियासत शुरू हो गई. बीजेपी आरिफ मसूद के शो में आने को दुर्भाग्यपूर्ण मान रही है. भाजपा प्रवक्ता नेहा बग्गा ने ट्वीट कर लिखा कि सांस्कृतिक परंपराओं और निर्बाध भाग्य के पर्व करवाचौथ का यह दृश्य दुर्भाग्यपूर्ण है। क्या रानी पद्मावती सहित हजारों नायिकाओं ने आज के दिन जौहर कुंड में अपने प्राणों की आहुति दी थी? हिंदुओं के पास अभी भी जागने का समय है नहीं तो आपका/हमारा धर्म, संस्कार, सभ्यता सब खा जाएगी।

तू दाल दाल मैं पाट : बीजेपी से निष्कासित प्रीतम लोधी ने एक बार फिर दिखाया दमदार प्रदर्शन, समर्थकों ने लहराई बंदूकें

करणी सेना ने फेसबुक पर लिखा कि आयोजक अंशु गुप्ता और एनएच12 क्रिएटिव विमेंस क्लब। यदि आप परंपरा का पालन नहीं कर सकते हैं, तो आपको हमारी पोशाक को बदनाम करने का कोई अधिकार नहीं है। इस पोशाक में रानी मां पद्मावती ने जौहर किया था। आज ऐसे हिंदू विरोधी मुस्लिम विधायक को इस ड्रेस में प्री करवा चौथ कर न्यौता देकर। हजारों महिलाओं का अपमान कतई बर्दाश्त नहीं किया जा सकता..!!

यह पोशाक परंपरा और साहस की कहानी है।

यह पोशाक हमारे पूर्वजों का सम्मान है,

सनातन संस्कृति के पहनावे की शान है ये पोशाक,

यह पोशाक उस समाज का प्रतीक है,

जिन्होंने जीवन भर विदेशी आक्रमणकारियों के खिलाफ बलिदान और लड़ाई लड़ी है।

और पढ़ें- जीका वायरस स्टॉक की जांच के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने केरल में विशेषज्ञों की एक टीम तैनात की

Leave a Comment