स्कूल में छात्राओं ने साफ किया टॉयलेट: मानव अधिकार आयोग ने स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव और DEO से मांगा जवाब

शब्बीर अहमद, भोपाल/शेखर उप्पल, गुना। मानवाधिकार आयोग ने गुना जिले के एक सरकारी स्कूल में शौचालय की सफाई करने वाली छात्राओं का दस्तावेजीकरण किया है. कमेटी ने प्रधानाचार्य स्कूल शिक्षा सचिव व जिला शिक्षा अधिकारी से जवाब मांगा। दोनों अधिकारियों को पूरे मामले में तथ्य के आधार पर एक महीने के भीतर जवाब देना होगा.

कक्षा 5-6 में छात्राएं साफ शौचालय : ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया कलेक्टर ने डीईओ को सौंपी जांच

दरअसल पूरा मामला बमोरी के चकदेवपुर प्राथमिक विद्यालय का था, जहां ग्रामीण विकास एवं पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया एकत्रित हुए. 5-6 कक्षा की लड़कियों की कुछ तस्वीरें जो स्कूल के शौचालयों की सफाई करती हैं। इसमें लड़कियां झाड़ू से शौचालय की सफाई करती नजर आ रही हैं. लड़कियां इसके लिए हैंडपंप से बाल्टियों में पानी भी लाती हैं।

कॉलेज के छात्र ने की आत्महत्या: ऑनलाइन गेम खेलने में मजा आता है छात्र, दो दिन पहले भाई से मांगे 2 लाख रुपये

इधर, बालिका शौचालय की सफाई की समस्या की सूचना अधिकारियों को दिए जाने के बाद गुरुवार को जिले के शिक्षा अधिकारी को उक्त विद्यालय में जांच के लिए रवाना कर दिया गया.

मंच पर बैठने को लेकर नपा अध्यक्ष और भाजपा जिलाध्यक्ष के बीच हुई थी बहस, VIDEO वायरल, यहां सज्जन सिंह वर्मा बोले- भाजपा में है सांप्रदायिकता, पार्टी में सीएम शिवराज और सिंधिया की स्थिति दयनीय

इस बारे में जब हमने जिला शिक्षा अधिकारी से बात की तो उन्होंने कहा कि उन्हें घटना की जानकारी सोशल मीडिया के जरिए मिली और वह तुरंत स्कूल का निरीक्षण करने गए. वहीं, जिला शिक्षा अधिकारी ने यह भी कहा कि अगर घटना हुई तो शिक्षक और प्राचार्य पर सख्ती बरती जाएगी.

और पढ़ें- जीका वायरस स्टॉक की जांच के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने केरल में विशेषज्ञों की एक टीम तैनात की

Leave a Comment